The Shree Krishna

Maiya Mori Main Nahi Makhan Khayo Lyrics | मैया मोरी मैं नहीं माखन खायो लिरिक्स

Maiya Mori Main Nahi Makhan Khayo

Experience the pure devotion and tender moments between mother and child through the poignant lyrics of ‘Maiya Mori Main Nahi Makhan Khayo.’ This soul-stirring composition captures the essence of Lord Krishna’s playful escapades, highlighting the love and warmth shared with his mother. Dive into the depth of these heartfelt verses and feel the spiritual connection as you explore the divine relationship portrayed in the lyrical beauty. Discover the joy, love, and innocence encapsulated in this musical expression, inviting you to a profound spiritual experience.

‘मैया मोरी मैं नहीं माखन खायो’ के मार्मिक गीत के माध्यम से माँ और बच्चे के बीच शुद्ध भक्ति और कोमल क्षणों का अनुभव करें। यह आत्मा-स्पर्शी रचना भगवान कृष्ण की चंचल लीलाओं के सार को दर्शाती है, जो उनकी माँ के साथ साझा किए गए प्रेम और गर्मजोशी को उजागर करती है। इन हृदयस्पर्शी छंदों की गहराई में उतरें और गीतात्मक सौंदर्य में चित्रित दिव्य संबंध का पता लगाते हुए आध्यात्मिक संबंध महसूस करें। इस संगीतमय अभिव्यक्ति में समाहित आनंद, प्रेम और मासूमियत की खोज करें, जो आपको एक गहन आध्यात्मिक अनुभव के लिए आमंत्रित करता है।

मैया मोरी मैं नहीं माखन खायो लिरिक्स

मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो ।
भोर भयो गैयन के पाछे,
मधुवन मोहिं पठायो ।
चार पहर बंसीबट भटक्यो,
साँझ परे घर आयो ॥

मैं बालक बहिंयन को छोटो,
छींको किहि बिधि पायो ।
ग्वाल बाल सब बैर परे हैं,
बरबस मुख लपटायो ॥

तू जननी मन की अति भोरी,
इनके कहे पतिआयो ।
जिय तेरे कछु भेद उपजि है,
जानि परायो जायो ॥

यह लै अपनी लकुटि कमरिया,
बहुतहिं नाच नचायो ।
सूरदास तब बिहँसि जसोदा,
लै उर कंठ लगायो ॥

Maiya Mori Main Nahi Makhan Khayo Lyrics

Bhor Bhayo Gaiyan Ke Paachhe,
Madhuvan Mohin Pathayo ।
Chaar Pahar Bansibat Bhatkyo,
Saanjh Pare Ghar Aayo ॥

Main Balak Bahinyan Ko Chhoto,
Chhinko Kihi Bidhi Paayo ।
Gwal Baal Sab Bair Pare Hain,
Barbas Mukh Laptayo ॥

Tu Janani Man Ki Ati Bhori,
Inke Kahe Patiayo ।
Jiy Tere Kachhu Bhed Upaji Hai,
Jaani Parayo Jaayo ॥

Yah Lai Apni Lakuti Kamriya,
Bahutahin Naach Nachayo ।
Surdas Tab Bihansi Jasoda,
Lai Ur Kanth Lagayo ॥

0Shares
Scroll to Top